शनिवार, 28 मई 2011


मेरे  पिया 


तुम्हारी  क्या  खता   थी


किस्मत  का  सब  कुसूर


पल -भर  में  कैसे


हो  गए  हम  दूर


भरती   हूँ  आँहें


लेती  हूँ  सिसकियाँ


क्या  बचा  है


 इस  जीवन  में


क्यूँ  तड़पे


"अब
  "
ये  हिया


ओह!!!!!!!!!


आ   जाओ    न 
  
 मेरे   पिया   ! 
                                                  ..................................................

11 टिप्‍पणियां:

Richa P Madhwani ने कहा…

nice..

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

बहुत ही प्यारे भाव ..

बधाई

आभार
विजय

कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

संजय भास्कर ने कहा…

I appreciate for your beautiful poem...nice... Excellent....Dr.Sushila JI

NEELKAMAL VAISHNAW ने कहा…

नमस्कार....
बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें
मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में पलकें बिछाए........
आपका ब्लागर मित्र
नीलकमल वैष्णव "अनिश"

इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्

1- MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

2- BINDAAS_BAATEN: रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव

3- http://neelkamal5545.blogspot.com

amrendra "amar" ने कहा…

bahut umda virah ki bhavna ne to dil ko jhanjod ker rakh diya hai , bahut umda

prritiy---------sneh ने कहा…

neh mein virah se bhari pukar..............

achha laga aapko padhna.

shubhkamnayen

Surendra shukla" Bhramar"5 ने कहा…

डॉ सुशीला गुप्ता जी अच्छी पोस्ट अच्छी छवियाँ ये वक्त दुश्मन बन जाता है तरसाता है तडपता है विरह वेदना दे जाता है दुआ है की पिया जल्दी आ जाएँ
सुन्दर रचना
भ्रमर ५

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

रूमानी जज्‍बों की सुंदर अभिव्‍यक्ति।


------
चलो चलें मधुबन में....
मन की प्‍यास बुझाओ, पूरी कर दो हर अभिलाषा।

vasundhara pandey ने कहा…

bahut hi sundar ..:)

Piush Trivedi ने कहा…

लाजवाब इसे भी देखे :-

http://hindi4tech.blogspot.com

बेनामी ने कहा…
इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.