रविवार, 6 मार्च 2011

जनम जनम तक

   अच्छा लगता

      तुम्हे सताना

         तुम रूठो

            फिर

               तुझे मानना

                  चलता रहे 

                      ये सिलसिला 

                           मरते - दम तक

                               यूँ - ही

                                    हँसते रहे हम

                                         जनम जनम तक 



2 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत खूब .जाने क्या क्या कह डाला इन चंद पंक्तियों में

संजय भास्कर ने कहा…

तारीफ के लिए हर शब्द छोटा है - बेमिशाल प्रस्तुति - आभार.