सोमवार, 20 दिसंबर 2010

दहेज़

किसने चलाया ऐसा चलन,
     किसने जलाया ऐसा हवन 
            जिसमे जले सिर्फ नारी  का तन,
                      जिससे   मिले न कभी भी अमन ||


दहेज़ के नाम पर, बोलो अभी तक,
   तुमने  दिया   किस -किस को कफ़न |
        कौन मिटेगा, कौन हटाएगा,  
                 बताओ मुझे क्या है, इसका जतन?


धूँ - धूँ  के स्वाहा हो जाएगा,  
एक दिन ये अपना ,सारा चमन |

                     करते  रहो मन, बेटी बहुओं को


                  ऐसे ही जमीं पे दफ़न | | 
                   


पर बुझाओगे फिर, किससे अपनी तपन,



    लूटोगे फिर किस पे, अपना ये धन ?


           पुकारोगे फिर किसको, अपनी बहन,



                     जब सूना ही कर दोगे, सारा चमन  ?? 
                       
                                          .................... 
            





1 टिप्पणी:

राकेश कौशिक ने कहा…

पर बुझाओगे फिर, किससे अपनी तपन,
लुटाओगे फिर किस पे, अपना ये धन ?
पुकारोगे फिर किसको, अपनी बहन,
जब सूना ही कर दोगे, सारा चमन??

समसामयिक एवं सार्थक सन्देश के साथ मार्मिक प्रस्तुति - फिर पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत